Latest Goat De-worming Basics in Hindi।। बकरी के जंतनाशक संबंधी बुनियादी बाते

Latest Goat Deworming Basics 

बकरी के जंतनाशक संबंधी बुनियादी बातों


What is Worm?

बकरी पालन मे बकरियो का स्वास्थ पर ध्यान देना काफी महत्वपूर्ण होता है, खासकर बकरियो के पेट मे पाये जानेवाले हैमनचस कॉन्टोर्टस (बार्बरपोल पेट कीड़ा) ये कीड़े प्राथमिक आंतरिक परजीवी है जो बकरियों में बीमारी और मृत्यु का कारण बनता है। इस कीड़े में प्रति वर्ष कई पीढ़ियों का उत्पादन करने वाला एक छोटा जीवन चक्र होता है, बार्बर पेट का कीडे के कारण बकरियो में एनीमिया होता है। जिसकारण बकरिया मर भी सकती है ।
https://www.goatfarming.ooo/2018/11/Latest-Goat-deworming-basics-in-Hindi.post.html
www.goatfarming.ooo

Goat Deworming Basics 

आइये इस पोस्ट में हम बकरियो में पाये जानेवाले पेट के कीड़े का सफाया करने के लिए क्या बेसिक पद्धति का अवलंब करना चाहिए ये जानते है।

1) जानवरो के पेट के कीड़े मारने के लिए जो दवाइया पिलायी जाती है उसे Dewormer (डिवॉर्मर्स) कहते है।

2) इन पेट मे रहनेवाले परजीवी का सफाया करने के लिए बकरियों को Dewormers (पेट के कीड़े मारने की दवा) दिया जाना चाहिए । 

3) Deworming जानवरो को पिलाया जाता है। आमतौर पर बकरियो को डिवॉर्मर्स Goat Dewormers लिक्विड रूप में दिए जानेसे Goat Worm पर जल्द असर दिखता है ।



FAMACHA Card For Goat Deworming

Goat Deworming के लिए FAMACHA एक मूल्यवान क्षेत्र परीक्षण है। इस पद्धतिमे Goat के आंख की निचली झिल्ली का रंग देखकर बकरियो के पेट मे Worm के उपस्थिति को प्रकट करता है जो पहले से ही रक्त चूसने और एनीमिया पैदा कर रहे हैं।
लेकिन FAMACHA (फामाचा) पद्धति आपको नहीं बता सकती कि Goat के पेट में कितने कीड़े हैं जो अभी तक रक्त चूसने शुरू करने के लिए विकसित नहीं हुए हैं। इसलिए Goat के मलमें मौजूद Worm के सूक्ष्म fecal अंडे की गणना करना अति आवश्यक हैं।

ये भी जरूर पढ़ें ।

Which Goat Dewormer is Best for Goats

आमतौर पर कई पशुचिकिस्तक और बकरी पालक बताते है कि Goat Dewormers हरबार बदलना चाहिए । लेकिन ऐसा नाकरे, एक डिवार्मर का उपयोग तब तक करें जब तक वो Goat Dewormers काम करना ना छोड़ दे, उसके बाद Goat Dewormers को बदले।

कुछ बकरीपालक बकरियो को Dewormer चारे में मिलाकर या फिर चारे में छिड़कर देते है जो आमतौर पर Goat Dewormer Powder Base होते है । लेकिन ऐसा करना Goat Worm से छुटकारा नही दे सकता , कुछ Goat Deworming बनाने वाली कंपनिया Dewormers पर "ऑर्गेनिक" या "ऑल-प्राकृतिक" या "होम्योपैथिक" डिवार्मर छापकर बेचते है । लेकिन Goat Dewormers में ऐसा कुछ नही होता कंपनिया सिर्फ अपना सेल बढ़ाने के लिए ये सब करती हैं। लेकिन आपको बतादे की Goat Dewormer में 'ऑर्गेनिक" या "ऑल-प्राकृतिक" या "होम्योपैथिक" ऐसा कुछ नही होता। 
इसलिए Goat को Deworming करने के लिए अच्छी कंपनी का dewormer का ही प्रयोग करे।

How to Give Dewormer to Goats

बकरियो को कोई भी दवाई का सटीक खुराक देना काफी महत्वपूर्ण होता है। वैसे ही बकरियो को Goat Dewomer का भी सटीक खुराक देना काफी जरूरी होता है । Dewormer का सटीक खुराक को डोस कहा जाता है । अंडर-डोसिंग या ओवर-डोसिंग पेट के कीड़ों को जीवित रहने के लिए मौका प्रदान करता है। आमतौर पर बकरियो उनके शरीर के वजन के अनुपात में कोई भी दवा दिजाति है। इसलिये डिवॉर्मर्स भी सटीक मात्रा में देना चाहिए ।

Drechgun Used for Goat Dewormer

बकरियो को Dewormer देने के लिए हो सके तो ड्रेंचेर का इस्तेमाल करना चाहिए । ड्रेंचेर का इस्तेमाल करने की प्रक्रिया को "स्मार्ट डेंच" तकनीक कहते है । होता क्या है कि बकरी पालक बकरियो को Dewormer देने के लिए साधे सिरिंज का इस्तेमाल करते है जिसकारण बकरीयोको दवाई कम अधिक मात्रा में दिजाति है जिसकारण उनका सही इलाज नही होता लेकिन अगर हम स्मार्ट ड्रेंचेर का इस्तेमाल करे तो हम जानपायेगे की बकरियो को सही मात्रा में दवाई पिलाना काफी आसान होता है। 
www.goatfarming.ooo


Precaution for Goat Dewormer

बकरियों को Dewormer देने से कम से कम 12 घँटे पहले 12 घँटे बाद ऑफ फीड करें। यानी बकरियो को Deworming करने से 12 घंटे पहले और Goat Deworming करने के 12 घंटे बाद बकरियो को चारा / खुराक नही खिलाना चाहिए । ध्यान रहे बकरोयो को इसदौरान पाणी उसके जरूरत के मुताबिक देना चाहिए।
कभी-कभी आपको एक ही समय में दो अलग-अलग डिवार्मर्स का उपयोग करना पड़ता है। जब एक Goat Dewormer  असर नहीं दिखाता तब आपको उस डिवॉर्मर्स के साथ दूसरा डिवॉर्मर देना होता है। ये प्रक्रिया पशुचिकिस्तक के निर्देशों से करनी चाहिए । दोस्तो एक बात ध्यान में रखे Goat Deworming करना इसका मतलब ये नही की आपके बकरियो के पेटसे सभी कीड़े नष्ट हो गए होंगे, इसकी पुष्ष्टि के लिए बकरियो के मल में मौजूद worm के अंडे को जांचना काफी महत्वपूर्ण होता है। बकरियोके मल मे मौजूद worm के अंडे को जांचने के लिए मल सम्पल को प्रयोगशाला में भेजना चाहिए। क्योंकि मल में वर्म के अंडे ये अतिशुष्म होने के कारण हम उन्हें ढूंढ नही सकते । बकरियों के लिए अधिक भीड़ की स्थिति और / या जलवायु बहुत गीला  वातावरण यानी मौत की सजा हो सकती है। क्योंकि ऐसी वातावरण में बकरियो को काफी तरह के बीमारियों का सामना करना पड़ता है। 

Latest Goat De-worming Basics in Hindi।। बकरी के जंतनाशक संबंधी बुनियादी बाते Latest Goat De-worming Basics in Hindi।। बकरी के जंतनाशक संबंधी बुनियादी बाते Reviewed by Nitesh S Khandare on November 28, 2018 Rating: 5

2 comments:

  1. Dwarming male goats pr kese kre actually me confuse hu apne har jagh female goat Ka name liya he esiliye

    ReplyDelete
  2. Dino ke liye same Hoti hai prosses

    ReplyDelete

Powered by Blogger.