Goat's Heat Stroke Problem And Treatment


Goat's Heat Stroke Problem And Treatment

एक बकरी के शरीर का सामान्य तापमान 102.9-103.1 के आसपास होता है, और तापमान और वातावरण के कारण थोड़ा अधिक या थोड़ा कम हो सकता है। हालांकि, जब एक बकरीके शरीर का तापमान बहुत अधिक बढ़जाता है, तो बकरियां अपने बढ़े हुवे शरीर के तापमान को कम करने में असर्मथ होती है। क्योंकि की बकरियों को पसीना नही आता जिन जानवरो को पसीना नही आता वह जानवर ज्यादा गर्मी बर्दाश्त नही कर सकते। फलस्वरूप ज्यादा गर्मी के कारण उनमें मानसिक तनाव जैसी स्तिति पैदा होजाती है और मृत्युभी हो सकती है।

Goat's Heat Stroke Problem And Treatment
www.goatfarming.ooo

Symptoms Of Heat Stroke Of Goat

बकरियों में गर्मी के तनाव के संकेत:
1. बकरियों का तेजी से हांफना। जानवरों को पसीना नहीं आता, इसके बजाय वे खुद को गर्मी से राहत देने के लिए हांफतेे हैं। खुले मुंह और मुंह के चारों ओर झाग का मतलब है कि उन्हें ज्यादा गर्मी बर्दाश्त नही हो रही हैं।


2. बकरियों के शरीर का गर्म मौसम में 103.2 से अधिक तापमान मतलब है कि शरीरका बहुत ज्यादा हैं और बकरियां शरीर का तापमान कम नहीं कर पारहि है।
3. झुके / लटके हुवे कान, धँसी हुई आँखें, चारा / पानी में कम रुचि दिखाना और झुंड अलग अलग रहना ये भी गर्म मौसम में बकरियों को heat stroke के लक्षण है।
4. बकरियों का जमीन पर बैठजाना हुआ और उठाने परभी उठने या हिलने का प्रयास नहीं करना।

यदी संकेत गर्मी के मौसम में बकरी में दिखते है तो, बकरी को heat stroke (लू) लग गयी है ये समझना चाहिए। ऐसे में बकरी के शरीर का तापमान नियंत्रित करने के लिए विशेष कदम उठाने चाहिए अन्यथा ज्यादा गर्मी के चलते बकरी के मस्तिष्क को क्षति हो सकती है और बकरी की मृत्यु भी हो सकती है।
याद रखे गर्मी यानी लू से ग्रसित बकरी को कभी भी ठंडे पानीसेें न भिगोएं, यह उनके नर्वस सिस्टम को झटका देता है और उन्हें खतरे में डाल सकता है। कई बकरी पालक बकरियों को बहुत ठंडा पानी पिलाते है ये भी गलत तरीका है।


Treatment Of Heat Stroke to Goat

जिस बकरी को Heat Stroke (लू) लगी है, उस बकरी को सबसे पहले बकरी को छाया में ले जाना चाहिए। फिर ठंडा (ज्यादा ठंडा नहीं) पानी लें और इसे धीरे-धीरे बकरी की गर्दन, पीठ और बाजू (सिर नहीं) पर डालें। लू से ग्रसित बकरी के सिर पर कभीभी ठंडा पानी न डाले। बकरी को भिगोएँ और फिर उसे हवादार रूम में रखे, इससे उसके शरीर परसे पानी वाष्पित हो जाएगा और बकरी का शरीर मे शीतलन प्रभाव पैदा होगा। यदि बकरी सतर्क है (होश में है), तो पीने के लिए साधारण ठंडे पानी में इलेक्ट्रोलाइट्स दे। एक बकरी में पानी कभी भी न डालें जो गैर-जिम्मेदार है, वे इसे आसानी से पूरा कर सकते हैं। बकरी को तब तक हिलाते रहें जब तक कि वह उठकर चलने न लगे।
यदि बकरी होशमें नहीं ह बेहोश है। तो जल्द से जल्द पशु चिकिस्तक को बुलाये।

How to Cool Down Goat

बकरियों को ठंडा कैसे रखें:
1. खुले स्थानों पर छाया की व्यवस्था करें, चाहे वह टारप, पेड़ हों या फिर ओवरहैंग। कभी भी एक गर्म खलिहान में जानवरों को एक साथ न रखे। कम छाया वाले जगह में बकरियों को एक साथ मजबूर न रखे वे शांत नहीं रहेंगी।
2. अगर आपके पास पानी की व्यवस्था है तो गर्मी में बकरोयो पर पानी की हल्की बौछार करना काफी फायदेमंद होता है।
3. सुनिश्चित करें कि उनका पानी की टंकियाँ में हमेशा साफ पानी हो और पीने के पानी का ठिकान यथासंभव छाया में हों। आप दिन में बर्फ भी डाल सकते हैं।
4. अगर आप बंदिस्त बकरी पालन कर रहे हो तो बकरियों के शेड में एक्जॉस्ट फैन और पंखे की व्यवस्था होनी चाहिए, (सुनिश्चित करें कि पंखे की इलेक्ट्रिक वायर और  पंखे बकरी की पहुंच से बाहर हैं) ।
5. बकरियों के चारेमे गर्मी के मौसम में अनाज में कटौती करनी चाहिए। अनाज एक त्वरित, "गर्म" फ़ीड है और बकरी के शरीर का तापमान बढ़ने  का कारण बन सकता है। गर्मी के मौसम में बकरियों को सिर्फ हरा या सूखा चारा ज्यादा खिलाना चाहिए।
6. सुनिश्चित करें कि बकरियों को चारा सही मात्रा में मीले नही तो वे आपस मे लड़ाई करती हैं। ऐसे आक्रामक बकरियों को दूसरे बकरियों से दूर रखें।
7. अगर पॉसिबल है तो गर्मी के मौसम में बकरियों को दिनमे सिर्फ इलेक्ट्रोलाइट डालकर ही पानी पिलाये।

Goat's Heat Stroke Problem And Treatment Goat's Heat Stroke Problem And Treatment Reviewed by Nitesh S Khandare on May 09, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.