Free Poultry Farming Course PDF Download links

Free Poultry Farming Course Marathi PDF Download 

'मुर्गी पालन' (Murgi Palan) की पूर्ण जाणकारी 

(मराठी भाषामें)

नमस्कार दोस्तो,
Free Poultry Farming Course PDF Download links
www.goatfarming.ooo
Poultry Farming एक ऐसा व्यवसाय है। जो काफी फायदेमंद औऱ करने में आसान व्यवसायोमेसे एक है। भारत मे Poultry Farming व्यवसाय काफी तेजीसे नवयुवक और किसानों में प्रसिद्ध हो रहा है।  भारत मे Poultry Farming को बढ़ावा देने के लिए Poultry Farming Courses भी किये जाते है। आज इस पोस्ट में मैं आपको Free Poultry Farming Course Marathi Pdf कैसे Download करनी है इसबारे में जानना चाहता हूं, दोस्तो जो मराठी भाषिक पोल्ट्री फार्मर्स है उनके लिए ये pdf काफी लाभदायी साबित हो सकती है।
इस pdf की मद्त से आप Poultry Farming केबारेमे जानकारी हासिल कर सकते है साथही आपको किसिभी Poultry Farming Course में भाग लेने की जरूरत नही पड़ेगी।

Meaning / Introduction of Poultry Farming Pdf

मांस और अंडो के उद्देश्य से मुर्गियों, बत्तख, बटेर, टर्की और गीज इन जैसे पालतू पक्षियो को पालना इस प्रक्रिया को Poultry Farming कहते है।
दुनिया मे पोल्ट्री फार्मिंग में ज्यादातर मुर्गियों का पालन किया जाता है, पूरे विश्वमे लगभग 50 बिलियन किसान पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय से जुड़े हुवे है। Poultry Farming दो प्रकार होते है।
  • लेयर पोल्ट्री फार्मिंग (Layer Poultry Farming)
  • ब्रायलर पोल्ट्री फार्मिंग (Broiler Poultry Farming


लेयर पोल्ट्री फार्मिंग (Layer Poultry Farming)

Poultry Farming क्षेत्र में लेयर फार्मिंग में मुर्गियों को सिर्फ अंडे देने के लिए पाला जाता है। Layer Farming में पाले जानेवाली मुर्गिया Chicken Broiler Chicken से अलग होती है। Broiler Chicken के विपरीत Layer Chicken केज यानी पिजड़े में रहती है और वहाँपर ही अंडे देती है।


ब्रायलर पोल्ट्री फार्मिंग (Broiler Poultry Farming

लेयर फार्मिंग के विपरीत ब्रायलर फार्मिंग में Chicken सिर्फ मांस के उत्पादन के लिए ही पाले जाते है। इस प्रकार में Desi Chicken और Broiler Chicken के ये दो प्रकार आते है। ब्रायलर चिकन फार्मिंग में विशेष तरह के चिकन होते है जो सिर्फ मांस के उत्पादन के लिए होते है।


Handbook of Poultry Production and Management pdf

भारत मे हालही के दिनों में पोल्ट्री फार्मिग व्यवसाय करने वाले किसानों और नौजवानो की संख्या में बड्ढोत्तरी हुई है, इस कारण कई नौजवान और किसान poultry farming training ले रहे है, ये training काफी महंगी भी होती है। और कईबार तो बहुत सारा पैसा खर्च करने के बाद भी अच्छी ट्रेनिंग नही मिलती,
तो दोस्तो आज मैं आपको कुुुछ ऐसे PDF डॉक्यूमेंट देनेवाला हु जिसकी मद्त से आपको Poultry Farming Basic Information pdf जानकारी मिलेंगी, और आप आपका व्यवसाय शुरू कर सकेंगे। poultry production farming pdf download करने के लिए नीचे दिगयीं लिंक का इस्तेमाल करे।



Poultry Farm Design pdf

दोस्तो, poultry farming में farm का design का काफी महत्वपूर्ण होता है, फार्म का डिज़ाइन फार्म की सफलता की कुंजी भी कहा जासकता है, क्योकि गलत और निकृष्ट फार्म का निर्माण अपने पूरे फार्म के उत्पादन पर असर डाल सकता है। खासकर ब्रायलर पोल्ट्री फार्मिंग में broiler chicken काफी नाजुक संवेदनशील पक्षी होते है, जिसकारण broiler farm का design काफि महत्वपूर्ण होता है।
कईबार किसान पोल्ट्री फार्मर काफी खर्चा करते है मगर वे अपने Poultry Farm Design पर ध्यान नही देते। जिसकारण उन्हें काफी नुकसान का सामना करना पड़ता है। 
इसलिए फार्म का डिझाइन काफी महत्वपूर्ण होता है जो किसिभी अनुभवी स्पेशलिस्ट से ही करवाना चाहिए।


Online Poultry Farming Book Purchase


Layer Poultry Farming pdf Download

अंडे के उत्पादन के लिए किये जानेवाले पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय को Layer poultry Farming कहाजाता है। इस व्यवसाय में खास किस्म की मुर्गियों का पालन किया जाता है जो एक लंबे समय तक अंडे देती है। ये मुर्गिया सिर्फ अंडे उत्पादन के लिए ही पाली जाती है, नाकि मांस के उत्पादन के लिये।
Layer Poultry Farming Business को रेग्युलर इनकम देने वाला पोल्ट्री व्यवसाय भी कहा जाता है, लेयर पोल्ट्री फार्मिंग में अगर शुरुवात 1500 लेयर चिकन से करोगे तोभी आप महीनेका 50 से 1 लाख रुपये कमा सकते हो।
Layer Farming की मुर्गिया खास किस्म की होती है जिसके चूजों को 1 दिनका होते ही विशेष रूपसे पाला जाता है। उम्र के 18 से 19 हफ़्तों के होतेहि ये चूजे अंडे देना शुरू कर देते है। और उम्र के 78 से 79 हफ़्तों तक लगातार अंडे देते है। Layer Production Chicken लगभग 2.5 किलो खुराक खाकर 1 किलो अंडे का उत्पादन देते है। 
विश्वमें काफी अलग अलग नस्ल के लेयर फार्मिंग की मुर्गिया पायी जाती है। अंडो के नैसगिक रंग के चलते दो किस्म के नस्ल के लेयर मुर्गियो का वर्गीकरण किया गया है।
  • White Egg Laying Hens 
  • Brown Egg Laying Hens 


White Egg Laying Hens 

इस प्रकारकी मुर्गिया दूसरे नस्ल के मुर्गियों से तुलनात्मक रूप से आकार में छोटी होती है, इनके अंडो का छिलके का रंग सफेद होता है। 
  • ईसा व्हाइट, 
  • लेहमैन व्हाइट, 
  • निकचिक व्हाइट, 
  • बाब कॉक बीवी 300, 
  • हावर्ड व्हाइट, 
  • हाय सेक्स व्हाइट, 
  • सीवियर व्हाइट, 
  • हाय लाइन व्हाइट, 
  • बोवंच व्हाइट आदि white egg laying मुर्गियों की नस्ले प्रचलित है।   


Brown Egg Laying Hens 

ब्राउन (भूरी) रंग की लेयर मुर्गी आकार में थोड़ी बड़ी होती है, और दूसरे लेयर मुर्गी के मुकाबले चारा भी ज्यादा खाती है, इनके अंडे के छिलके का रंग भूरा होता है, परिणामस्वरूप इनके अंडे भी दूसरे लेयर मुर्गी के मुकाबले ज्यादा बड़े होते है।

  • ईसा ब्राउन, 
  • हाय सेक्स ब्राउन, 
  • सेवार 579, 
  • लेहमैन ब्राउन, 
  • हाय लाइन ब्राउन, 
  • बाब मुर्गा BV-380, 
  • गोल्ड लाइन, 
  • बबलोना टेट्रो, 
  • बबलोना हरको, 
  • हावर्ड ब्राउन आदि नस्ले लेयर मुर्गी पालन के लिए बहुत उपयुक्त हैं।

विशेष आभार । Special Thanks
Notes created by :-
Mr. Suhas Dnyandev Aabitkar
# 9049 09 57 67
Educated & Provided by:- Dr. Davre & Dr. Anita Kadam, Central EggI ncuabation Center, Kolhapur. # 0231 -2651729

E.B. Sonaiya
Department of Animal Science
Obafemi Awolowo University
Ile-Ife, Nigeria
and
S.E.J. Swan
Village Poultry Consultant
Waimana, New Zealand

Agriculture Skill Council Of India
6th Floor, GNG Bldg Plot No 10
Haryana, India

Jon Moyle
University of Maryland
Extension
Free Poultry Farming Course PDF Download links Free Poultry Farming Course PDF Download links Reviewed by Nitesh S Khandare on February 27, 2019 Rating: 5

1 comment:

Powered by Blogger.