Mastitis Treatment in Cow and Buffalo in Hindi



Mastitis Treatment in Cow and Buffalo in Hindi

नमस्कार दोस्तो,
अगर आप Dairy Farming करते है तो आपको पता ही होगा कि गाय और भैंस के स्वस्थ थन का महत्व क्या है। स्वस्थ थन दुधारू जानवरो के लिए काफी महत्वपूर्ण होते है। अगर जानवरो के थनों में कोई परेशानी है तो जानवरो को दूध देनेमें परेशानी होती है, अंतः हमारे कमाई पर असर पड़ता है।
www.goatfarming.ooo

दुधारू जानवरो को थनों को हानेवाले थनैला (Mastitis) बीमारी एक ऐसी बीमारी है जिसका समय पर इलाज नही किया गया तो गाय भैस बकरी के थन हमेशा के लिए खराब हो सकते है। 
तो आइये जानते है कि पशुओ को होनेवाले Mastitis यानी थनैला रोग के बारे में ये रोग कैसे होता है और इसका क्या इलाज है।

Causes of Mastitis in Cow and Buffalo.

Mastitis एक ऐसी बीमारी है जो खासकर पशुओ के थनो में होती है, ये रोग खासकर Dairy Cattel को होता है जैसे Cow और Buffelow. Mastitis बीमारी का मुख्य स्रोत है एक बक्टेरिया जो बाड़े में अस्वछता के कारण फैलता है। अगर आपका बाड़े में गंदगी है और गाय और भैंस उस गन्दगी में बैठते है तो वो जानवर इस बीमारी के चपेट में आसकते है।
Mastitis के जीवाणु संक्रमक होते है और ये बैक्टीरिया अस्वास्थ्यकर परिस्थितियों में पनपते हैं।
गायों में होने वाला Mastitis disease गाय की स्तन ग्रंथि और उदरके ऊतक की सूजन है। यह रोग डेयरी मवेशियों की एक प्रमुख स्थानिक बीमारी है लेकिन अन्य सभी स्तनपान कराने वाले स्तनधारियों को भी प्रभावित कर सकती है।
जब बैक्टीरिया स्तन के छिद्र के माध्यम से udder में प्रवेश करते हैं, तो वे udder में पोषक तत्व पाते हैं और तेजी से अपनी संख्या बढ़ाते हैं। उनकी संख्या बढ़ने से स्तन में विषाक्त पदार्थ छोड़ते है, जिसकारण स्तन में सूजन होती है।

Mastitis in Cow and Buffalo.

गायों में होने वाला Mastitis एक बहुत ही जटिल बीमारी है क्योंकि पशुपालक Mastitis के शुरुवाती चरणों के दौरान इसका पता नहीं लगा सकते है। ये Mastitis बीमारी बिना कोई लक्षण दिखाये पृरे झुंड को अपने चपेट में ले सकता है। क्योंकि ये एक घातक संक्रामक बीमारी है। Mastitis बीमारी बहुत तेजी से बाकी झुंड में फैल सकती है। ये बीमारी से आपके पशुओ के स्तन खराब हो सकते है आगत आपने सही समय मे इसका इलाज नही किया तो पशु का स्तन खराब हो सकता है साथही आपका दूध उत्पादन भी बंद हो सकता है।

Treatment of Mastitis in Cow.

Mastitis बीमारी का इलाज में सबसे प्रथम आता है कि अपने शेड या बाड़े में स्वच्छता रखे क्योकि ये बीमारी अस्वछ रखरखाव के कारण ही फैलती है साथ ही Mastitis के जीवाणु गंदगी में ही फैलते है। तो ध्यान रखे अपने शेड और पशुओ के स्तन का साफ सुधरा रखना इस बीमारीसे बचाव का सबसे महत्वपूर्ण और आसान तरीका है।
लेकिन अगर आपके दुधारू पशुओं को ये बीमारी हो गयी है आउट आपको इस बीमारी का पता लग गया है। तो आज इस पोस्ट में मैं आपको एक ऐसी दवाई बताने वाला हूं जो आपको तीन दिनमे इस बीमारी से छुटकारा दे सकती है। औऱ ये दवाई आपको घरबैठे भी मिल सकती है यानी ये दवाई ऑनलाइन आप खरीद सकते है।
आर-किट एक ऐसी दवाई है जो Mastitis से ग्रासित पशुओ को 03 दिनों के अंदर Mastitis बीमारिसे निजात दिलाता है। R-Kit एक ऐसी पावडर है जिसमे पीएच नियामक (01 दिन), फाइब्रोसिस कंट्रोलर (02 दिन), दूध नियामक (03 दिन) के रूप में 3 अलग-अलग घटक होते हैं।
R-Kit जैसे नाम से ही पता चलता हैंकिनये एक किट के रूप में मिलता है। जिसमे 03 अलग अलग पाउच होते है। जैसे ही आपको पता चले कि पशुओ को Mastitis की शुरुवात हो गयी है तो इस किटमेसे पहले पाउच का पशुओ को देना है। पहला पाउच देनेसे  Mastitis से ग्रासित पशु के स्तन का संक्रमण चक्र को रोकता है, औऱ Mastitis को रोकने में अपनी भूमिका निभाता है। अगर पशुओ को ये आर-किट मास्टिटिस के बाद के चरणों में दिया जाता है, तब भी यह दिन 2 और दिन 3 के रूप में अपने हिस्सों के कारण शक्तिशाली रूप से कार्य करता है जो कि मास्टिटिस के नियंत्रण में जादुई परिणाम दे रहे हैं।


R-Kit ऑनलाइन ख़रीदनेके के लिए लिंक को क्लिक करे।

R-kit ये दवाई पशुओ को खिलाने से पहले पशुचिकिस्तक की राय जरूर ले। 



Disclosure
Some blog posts and web pages within this site contain affiliate links, which means I may earn a small commission if you click the link then purchase a product or service from the third party website.


Mastitis Treatment in Cow and Buffalo in Hindi Mastitis Treatment in Cow and Buffalo in Hindi Reviewed by Nitesh S Khandare on January 10, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.